गले में दर्द और खराश के 5 आसान उपाय और घरेलू नुस्खे

Gale me dard गले में दर्द और खराश के 5 आसान उपाय और घरेलू नुस्खे

गले में दर्द के घरेलू उपाय और नुस्खे: गले में दर्द और खराबी की समस्या से बच्चे से ले कर बड़े  तक कोई भी परेशान हो सकता है। दर्द होने के इलावा गले में खांसी, खराश, सूजन, बलगम, छाले और इन्फेक्शन कुछ सामन्य रोग है जिसके इलाज के लिए लोग सिरप और टेबलेट का सहारा लेते है। कई बार दवा लेने के बाद भी गले की समस्या दूर नहीं होती। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से मिलकर जांच करवाए और ट्रीटमेंट शुरू करे।  घरेलू नुस्खे अपनाकर भी गले के रोगों से छुटकारा पाया जा सकता है। आज  इस लेख में हम जानेंगे देसी तरीके और आयुर्वेदिक उपचार से गले में दर्द खांसी और खराश का इलाज कैसे करे, gharelu nuskhe for throat pain in hindi.

गले में दर्द का इलाज के घरेलू उपाय, Gharelu nuskhe for throat pain in hindi

 

गला खराब होने के क्या कारण है

  1. मौसम में अचानक से बदलाव आना।
  2. धूल और मिट्टी से एलर्जी
  3. तेज मसालेदार और तली हुई चीजें खाने से गले में सूजन और छाले हो जाते है।
  4. किसी बैक्टीरिया या फिर वायरस की वजह से गले में इंफेक्शन और खराबी आने लगती है।
  5. गले का ज्यादा प्रयोग करने के कारण से आवाज बैठना और गला बैठने जैसी समस्या आ जाती है।

 

गले में दर्द के घरेलू उपाय और नुस्खे

Gharelu nuskhe for throat pain in hindi

1. 1 कप हल्का गर्म पानी ले और इसमें आधा चम्मच नमक व हल्दी एक चौथाई चम्मच डाल कर गरारे करे। इसके बाद आधे घंटे तक कुछ ना खाए पिए।

2. हल्दी वाला दूध पीने से भी गले के दर्द के उपाय में आराम मिलता है। एक गिलास दूध में थोड़ी सी पीसी हुई काली मिर्च और आधा चम्मच हल्दी डाल कर पिए।

3. ईमली वाले पानी से गरारे करने पर भी गले के दर्द में आराम मिलता है।

4. गले के दर्द के घरेलू इलाज के लिए पानी में पालक उबाल कर इसे छान ले। इस पानी से गरारे करने पर गले के दर्द में आराम मिलता है।

5. गले में खराश होने से सूजन आ जाती है जिस कारण गले में दर्द होने लगता है। 1 गिलास हल्के गर्म पानी में 1 चम्मच नमक मिला कर दिन में 2-3 बार गरारे करे। इससे सूजन कम होने लगेगी और दर्द में भीं आराम आएगा।

 

गले के रोग का आयुर्वेदिक इलाज

गले में दर्द, खांसी, सूजन, खराश, टॉन्सिल्स, इन्फेक्शन या गले में छाले हो गए हो तो कच्ची हल्दी इन सबसे राहत पाने में रामबाण काम करती है। गले की कोई भी बीमारी हो आधा चम्मच कच्ची हल्दी का रस ले और मुंह खोल कर ऊपर से डाले।

  • हल्दी का रस डालने के बाद कुछ देर मुंह बंद कर के बैठे। ये रस मुंह की लार के साथ साथ गले से नीचे चला जाएगा। ये उपाय एक बार करने पर ही आप आराम महसूस करने लगेंगे। खांसी किसी भी हो इस उपाय से कुछ देर में ही आराम मिलने लगेगा।

 

गले की खराश दूर करने के लिए उपाय

  • खराश गले में टॉन्सिल या इन्फेक्शन के कारण होती है। मौसम में बदलाव की वजह से भी अक्सर खराश होने लगती है जो 3-4 दिन में ठीक हो जाती है। हम कुछ उपाय करके भी खराश से जल्दी छुटकारा पा सकते है।
  • गले में सूजन होने पर प्याज का रस का प्रयोग कर सकते है। ये सूजन को प्राकृतिक तरीके से दूर करने में उपयोगी है। 1 गिलास गुनगुने पानी में 2 चम्मच प्याज का रस डाल कर पिए।
  • गले की खराश दूर करने में लहसुन भी फायदेमंद है। 1-2 कली लहसुन की ले और मुंह में रख कर चूसे। जैसे जैसे इसका रस गले से नीचे जायेगा खराश में आराम मिलने लगेगा।
  • गला बैठने पर सौंफ चबाए। इससे बंद गला खुल जाता है और खराश भी दूर होती है।
  • एक बर्तन ले और इसमें पानी डाल कर इसे गर्म कर ले और इस बर्तन से भाप ले। इससे गले का इन्फेक्शन खत्म हो जाएगा और गले की खराश भी दूर होगी।

 

खांसी के इलाज में परहेज

  • दही, ठंडा पानी और कोल्ड ड्रिंक से परहेज करे।
  • फ्रीज में रखी ठंडी चीज़े खाने पीने से भी बचे।
  • तंबाकू और धूम्रपान बिल्कुल ना करे।
  • कुछ गर्म खाने के तुरंत बाद ठंडी चीज़ ना खाए।
  • ज्यादा खट्टी और मसालेदार चीजें भी नहीं खानी चाहिए।

 

दोस्तों गले में दर्द के घरेलू उपाय और नुस्खे, Gharelu nuskhe for throat pain in hindi का ये लेख आपको कैसा लगा बताये और अगर आपके पास गले की खराश और दर्द का उपचार से जुड़े नुस्खे है तो हमारे साथ साँझा करे।

Recent Articles

मोतियाबिंद को ठीक करने के लिए कौन से घरेलू उपचार का उपयोग करना चाहिए

मोतियाबिंद आँखों में होने वाला एक रोग है, उसका इलाज करने के लिए सबसे पहले उसकी गंभीता का पता होना चाहिए| अगर मोतियाबिंद की...

मोतियाबिंद के दौरान क्या खाएं

अक्सर बहुत सारे लोग आँखों में मोतियाबिंद की बीमारी हो जाने पर बहुत परेशान हो जाते है| काफी समय पहले मोतियाबिंद बहुत घातक बीमारी...

मोतियाबिंद के दौरान किन चीजों से बचना चाहिए

आँखे हम सभी के लिए अनमोल और बहुमूल्य होती है और कोई भी उन्हें खोना नहीं चाहेगा| आँखों में होने वाले रोगो में से...

मोतियाबिंद से जुड़े जोखिम और जटिलताएं क्या हैं

मोतियाबिंद की परेशानी में अगर आप लापरवाही करते है तो धीरे धीरे बढ़कर आपकी पूरी आँख को प्रभावित कर देता है और आपकी आँखों...

मोतियाबिंद का इलाज

मोतियाबिंद का इलाज आपकी आँखों की जाँच करने के बाद ही उचित ढंग से किया जाता है| कई बार अगर परेशानी ज्यादा नहीं है...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 2 =