दिल का दौरा पड़ने के लक्षण 3 घरेलू उपाय और देसी उपचार

Ayurvedic Nuskhe - आयुर्वेदिक नुस्खे दिल का दौरा पड़ने के लक्षण 3 घरेलू उपाय और देसी उपचार

जब हमारे शरीर में दिल तक खून को पहुँचने में रुकावट आती है तब दिल का दौरा (हार्ट अटैक) पड़ने की संभावना बढ़ जाती है और अगर समय रहते इस रुकावट को दूर ना किया जाए तो ये एक गंभीर रोग बन सकता है जो जानलेवा हो सकता है। हॉस्पिटल्स में एलोपैथी ट्रीटमेंट से हार्ट अटॅक का इलाज काफी महँगा होता है और पैसों की कमी के कारण आम व्यक्ति दिल की बीमारियों का उपचार नहीं करवा पाता। इस लेख में हम पढ़ेंगे दिल की बीमारियों से कैसे बचे और दिल के दौरे का उपचार घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक तरीके से कैसे करे। आइये जाने natural ayurveda home remedies tips for heart attack treatment in hindi.

 

दिल के दौरे का उपचार के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

हार्ट अटैक पड़ने के कारण

  • मोटापा
  • शुगर
  • हाई कोलेस्ट्रॉल
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • जेनेटिक प्राब्लम

 

दिल का दौरा पड़ने के लक्षण

  • साँस फूलना
  • पसीना जादा आना
  • छाती में जलन या दर्द होना (chest pain)
  • उल्टी आना, चक्कर आना, बेहोश होना
  • घबराहट होना और जी मचलना

 

दिल का दौरा पड़ने पर क्या करें

अगर किसी को दिल का दूर पड़ जाये तो उसे जोर जोर से खाँसना चाहिये, इससे दिल पर दबाव पड़ेगा और खून का परवाह हार्ट की और तेज होगा। खांसने के बाद गहरी और लम्बी सांसे ले।

अगर अचानक आये हार्ट अटैक से मरीज की चेतना चली जाये तो सीपीआर और नाक दबा कर मुँह से साँस देना जैसी प्रक्रिया करे और मरीज को तुरंत हॉस्पिटल ले जाये।

 

दिल के दौरे का उपचार एलोपैथी से

एलोपैथी में एंजियोप्लास्टी ट्रीटमेंट से डॉक्टर्स इस रोग का इलाज करते है और दिल के रोगों से बचने के लिए हार्ट सर्जरी (हार्ट बाईपास ट्रीटमेंट) की सलाह देते है जिस में काफी खर्चा आता है। हार्ट बाईपास सर्जरी में डॉक्टर्स ब्लॉकेज वाली जगह पर स्प्रिंग्स (स्टंट) डालते है।एंजियोप्लास्टी करवाने के बाद भी मरीज को दुबारा दिल का दौरा पड़ने का ख़तरा होता है पर देसी नुस्खे से उपचार करके आप इस बीमारी का सफल इलाज कर सकते है।

 

दिल के दौरे का उपचार के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

Heart Attack Treatment Heath Tips in Hindi

 

घरेलू और आयुर्वेदिक नुस्खे से बिना ऑपरेशन और एंजियोप्लास्टी किये 80 से 90% तक हार्ट ब्लॉकेज को खोला जा सकता है और साथ ही दिल की दूसरी बीमारियों का इलाज भी किया जा सकता है। आयुर्वेद में दिल का दौरा पड़ने से रोकने के बहुत से उपाय है जो काफ़ी असरदार है।

 

राजीव दिक्षित आयुर्वेदिक उपचार : Rajiv Dixit Heart Attack Ayurveda Tips

दिल को होने वाली बीमारियां अमलता (एसिडिटी) की वजह से होती है और आयुर्वेदा हार्ट ब्लॉकेज ख़तम करने के लिए चिकनाई से पैदा हुए अमल को साफ़ करता है जिस से दिल के रोग जड़ से ख़तम हो जाते है।

अम्लता 2 तरीके से हो सकती है, एक वो जो पेट से संबंधित है और दूसरी अमलता खून से संबंधित होती है। पेट में असिडिटी जादा होने पर पेट में जलन होने लगती है और जब ये असिडिटी और बढ़ती है तब हायपरसिटी हो जाती है और बढ़ते बढ़ते ये ब्लड असिडिटी का रूप ले लेती है। ब्लड में एसिडिटी बढ़ने पर खून नसों में ठीक से प्रवाह नहीं हो पाता जिससे रक्त प्रवाह नालियों में ब्लॉकेज होने लगती है जो हार्ट अटॅक का मुख्य कारण है।

ब्लड की एसिडिटी को समाप्त करने के लिए आयुर्वेद में शारिया चीज़े खाने को कहा गया है। शारिया चीज़े खून में बढ़ रही अमलता को न्यूट्रल करती है जिससे ब्लॉकेज खुलने में मदद मिलती है।

  1. लौकी सबसे अधिक शारिया है। लौकी का सेवन आप जूस और सब्जी के रूप में कर सकते है या फिर इसे आप कच्चा भी खा सकते है बस ध्यान रहे की लौकी कड़वी ना हो।
  2. तुलसी भी शारिया होती है इसे लौकी के जूस में मिला कर भी ले सकते है।
  3. पुदीने में भी शारिया गुण पाये जाते है। तुलसी और पुदीना को मिला कर हम लौकी के जूस ज्यादा शारिया बना सकते है। इस जूस में सेंधा नमक मिला कर इसका सेवन कर सकते है।

 

दिल के दौरे का इलाज के लिए बाबा रामदेव मेडिसिन

  • दिव्य अर्जुन क्वाथ
  • दिव्या हृदयामृत
  • दिव्या संगेयशव पिष्टी
  • दिव्य अकीक पिष्टी
  • दिव्या मुक्ता पिष्टी
  • योगेन्द्र रस

ये सब दवाएं heart diseases के इलाज में ली जाती है जिन्हें आप बाबा रामदेव के पतंजलि स्टोर से ले सकते है। इनके सेवन से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह से जाने की आपके लिए कोन सी मेडिसिन बेहतर है और उसे किस तरीके से कितनी मात्रा में लेना है।

 

दिल का दौरा पड़ने से रोकने के घरेलू नुस्खे

इलाज से बेहतर बचाव है। हम कुछ घरेलू उपाय और नुस्खे अपनाकर दिल के रोगों से खुद को बचा सकते है और आवश्यकता पड़ने पर उपचार भी कर सकते है।

  • भोजन में अलसी के तेल का इस्तेमाल करे। इसमें ओमेगा – 3 फैटी आसिड अधिक होता है जिससे दिल को ताक़त मिलती है।
  • अर्जुन छाल दिल की सभी प्रकार की बीमारियों में रामबाण औषधी है। अर्जुन छाल की चाय पीने से काफी फायदा मिलता है।
  • मिश्री और सूखा आंवला को बराबर मात्रा में ले कर पीस ले और रोजाना इस मिश्रण का 1 चम्मच पानी के साथ ले। इस उपाय से दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम हो जाता है।
  • दलिया में आयरन भरपूर मात्रा में होता है,हर रोज दलिया खाने से heart problems की सम्भावना काफ़ी कम हो जाती है।
  • सूखा धनिया और अलसी के पत्तों का काढ़ा बना कर हर रोज पीने से दिल की कमजोरी दूर होने लगती है।
  • शहद खाने से दिल को ताक़त मिलती है, इसलिए प्रतिदिन 1 चम्मच शहद का सेवन अवश्य करे।
  • घी में गुड़ को मल कर हर रोज खाने से दिल मजबूत बनाता है।

 

हार्ट अटैक के उपचार के योगा टिप्स

नियमित yoga करने से हम शरीर को कई प्रकार की बीमारियों से बचा सकते है और अगर आप किसी रोग से ग्रस्त है तो उससे छुटकारा पाने में भी योगा करने से जल्दी फायदा मिलता है। बाबा रामदेव द्वारा बताए हुए 5 तरीके के प्राणायाम नियमित करने से हार्ट डिसीसेस से बचने और उपचार में काफी लाभ मिलता है।

  1. भस्त्रिका प्राणायाम
  2. कपालभाती प्राणायाम
  3. अनुलोम विलोम प्राणायाम
  4. भ्रामरी प्राणायाम
  5. उद्गीत प्राणायाम

इन प्राणायाम को करने से पहले आप इन्हें करने की सही प्रक्रिया सीखे, इसके लिए आप किसी योग गुरु की मदद ले सकते है या फिर baba ramdev के विडियो देख कर घर बैठे ही सिख सकते है।

 

हार्ट अटैक से बचने के लिए जरूरी है की दिल को स्वस्थ रखे इसलिए अपने खाने पिने में अधिक वसा वाली चीजों का सेवन न करे,धूम्रपान और शराब से दूर रहे। इसके साथ रोजाना हल्का फुल्का व्यायाम या साइकिलिंग और वॉकिंग जैसी एक्सरसाइज करे।

 

दोस्तों दिल के दौरे का उपचार के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे, Heart Attack Treatment Heath Tips in Hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके बताये और अगर आपके पास हार्ट अटैक का इलाज के आयुर्वेदिक तरीके है तो हमारे साथ शेयर करे।

Recent Articles

पिंपल्स के लक्षण,कारण, इलाज

हमारे चारो तरफ वातावरण इतना दूषित हो चूका है,जिसकी वजह से हर इंसान को कोई न कोई परेशानी और रोगो का सामना करना पड़...

पिंपल्स क्या है?

पिंपल्स जिन्हे हम कील-मुंहासे के नाम से भी जानते है| पिंपल्स ज्यादातर चेहरे पर ही निकलते है लेकिन अगर सही समय पर इसकी रोकथाम...

पस (मवाद) वाले पिंपल्स

हम सभी जानते है की पिंपल्स कई प्रकार के होते है,उनमे से एक होते है मवाद(पस ) वाले पिंपल्स| वैसे तो पिंपल्स किसी भी...

पिंपल्स को कैसे हटाए ?

अगर आप पिंपल्स से बहुत ज्यादा परेशान है और आप चाहते है की पिंपल्स देशी नुस्खों से चले जाए तो आप बिलकुल सही जगह...

पिंपल्स को बार बार आने से रोके

पिंपल्स 14 से 35 साल तक की उम्र के पुरुष और महिला दोनों को हो सकते है| महिलाओ के शरीर में हार्मोन्स बदलाव ज्यादा...

12 COMMENTS

  1. आपके द्वारा दी गई जानकारी बहुत ही उपयुक्त एवं महत्वपूर्ण है

    • आप ऊपर लिखे उपाय और नुस्खे पढ़े, इलाज के साथ साथ जरुरी है की हम एक अच्छी जीवनशैली चुने ताकि दिल स्वस्थ रहे.

  2. यह जो पतांजलि की आयुर्वेद दवाइयां है उसे कभी युझ नही किये तो फिर भी ले सकते है क्या..?

  3. सर आपके लेख हमेशा ही फायदेमंद होते है, दिल मे छेद हो तो क्या करे और आयुर्वेदिक इलाज क्या है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here